कोरोना काल में उत्पीड़न से तंग आकर उन्नाव के 19 डॉक्टर्स ने दिया सामूहिक इस्तीफा

0
147

कोरोना संकट के इस समय जब डॉक्टर्स की इतनी कमी है। लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं बहुत मुश्किल से मिल पा रहीं है।  इसबीच उत्तर प्रदेश के उन्नाव में 16 सरकारी डॉक्टरों ने सामूहिक इस्तीफा दे दिया है।

Advertisement

इस्तीफा देने वाले डॉक्टर अलग-अलग सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) के प्रभारी हैं। उनका आरोप है कि जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी गलत ढंग से बात करते हैं।

प्रशासन के तानाशाही रवैये और विभागीय उच्च अधिकारियों के असहयोग के कारण उन्नाव के 16 प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारियों ने अपने पद से सामूहिक इस्तीफा दिया है। सीएमओ डॉ. आशुतोष के न मिलने पर उन्होंने डिप्टी सीएमओ डॉ. तन्मय कक्कड़ को अपना इस्तीफा सौंप दिया है।

Advertisement

इस्तीफा देने वाले डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना के बीच वे पूरी निष्ठा के साथ अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहे हैं, इसके बावजूद प्रशासनिक अधिकारियों ने दंडात्मक आदेश जारी करते हुए तानाशाही रवैया अपनाया है, यही नहीं विभागीय उच्चाधिकारियों द्वारा असहयोग की भूमिका बनाई गई है।

इंडिया टुडे से बात करते हुए पीएचसी गंजमुरादाबाद के प्रभारी डॉ. संजीव कुमार ने कहा कि जिस तरह से व्यवहार किया जा रहा है, उससे हम परेशान हैं, RT-PCR टेस्ट हो या फिर कोविड वैक्सीनेशन या कोई प्रोग्राम, तत्काल टारगेट दिया जाता है, इसके बाद जिला प्रशासन की ओर से अभद्र व्यवहार किया जाता है।

एक और सीएचसी प्रभारी डॉ. मनोज ने कहा कि चिकित्सा अधिकारी प्रभारी एसोहा और कार्यवाहक प्रभारी चिकित्सा अधिकारी फतेहपुर चौरासी को स्पष्टीकरण का मौका दिए बिना प्रभारी के पद से हटा दिया गया और उन्हें कोविड कमांड रूम में रखा गया, सभी सीएचसी प्रभारी एकतरफा कार्रवाई से पीड़ित हैं।

Advertisement

सामूहिक रूप से इस्तीफा देने वालों में डॉ. मनोज, डॉ. विजय कुमार, डॉ. बृजेश कुमार, डॉ. अरुण कुमार, डॉ. संजीव कुमार, डॉ. शरद वैश्य, डॉ. पंकज पांडे और अन्य सीएचसी प्रभारी शामिल हैं। सामूहिक इस्तीफे की एक कॉपी स्वास्थ्य विभाग के बड़े अफसरों के साथ डॉक्टरों के संघ को भी भेजी गई है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement