युवा नेता वैभव चतुर्वेदी को प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने दिलाई भाजपा की सदस्यता

212
Advertisement
  • गोरखपुर व संतकबीर नगर जिले के खलीलाबाद सहित अन्य क्षेत्रों में समाज सेवा के चलते वैभव चतुर्वेदी रहते हैं चर्चा में
  • ब्लूमिंग बड्स व प्रभादेवी एजुकेशनल ग्रुप के निदेशक हैं वैभव चतुर्वेदी

गोरखपुर। समाजसेवी युवा नेता वैभव चतुर्वेदी ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय लखनऊ में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। इस दौरान उनके दर्जनों समर्थक भी कार्यालय पर मौजूद रहे। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने समाजसेवी वैभव चतुर्वेदी को भाजपा का अंगवस्त्र पहनाकर सदस्यता दिलाई। साथ ही पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया।

Advertisement

कार्यालय में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए युवा नेता वैभव चतुर्वेदी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी परिवार का हिस्सा बनकर गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ। विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक संगठन के माध्यम से देशहित में काम करूंगा। क्षेत्र के विकास के प्रति सदैव प्रतिबद्ध रहूंगा। समाज की प्रगति का उद्देश्य लेकर आपके बीच आ रहा हूँ। हर वर्ग को साथ लेकर चलने वाली, सबका साथ – सबका विकास की विचारधारा को आगे बढ़ाने में अपना सर्वस्व समर्पित करने का संकल्प लेता हूँ। उन्होंने राष्ट्र के पुनर्निर्माण और पुनरुत्थान में प्रतिपल समर्पित भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व एवं वरिष्ठ पदाधिकारियों का हृदय से आभार जताया।

उन्होंने आगे कहा कि संतकबीर नगर जिला आज भी कई मूलभूत सुविधाओं से अछूता है। इसके विकास के लिए मैं प्रतिबद्ध रहूंगा। समाज के हर तबके तक राज्य और केंद्र सरकार की योजनाएं पहुंचाने का बेहतर प्रयास करूंगा जिससे कि समाज का अंतिम व्यक्ति इससे लाभान्वित हो सके। समाज के अंतिम व्यक्ति तक योजनाओं का पहुंचना ही देश के विकास को दर्शाता है। इसी से क्षेत्र और देश का विकास संभव है।

Advertisement

कौन है युवा समाजसेवी वैभव चतुर्वेदी

वैभव चतुर्वेदी संतकबीर नगर जिले खलीलाबाद के रहने वाले हैं। उनके कई शिक्षण संस्थान हैं। प्रभादेवी एजुकेशनल ग्रुप व ब्लूमिंग बड्स स्कूल के निदेशक हैं। क्षेत्र के विकास के लिए उन्होंने कई शिक्षण संस्थान खोले हैं। शिक्षा के जरिए ही समाज को विकसित बनाने का उनका सपना है।

गोरखपुर, संतकबीर नगर सहित अन्य जिलों में उनके शिक्षण संस्थान है। विगत कई वर्षों से वह समाज सेवा से जुड़े हैं। गरीब, असहाय व निराश्रित की सेवा करना उनका ध्येय है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement