Home उत्तर प्रदेश शिवसेना का बीजेपी पर हमला, राम मंदिर के बहाने 2024 चुनाव की...

शिवसेना का बीजेपी पर हमला, राम मंदिर के बहाने 2024 चुनाव की हो रही तैयारी

Advertisement

अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने के लिए चंदा वसूलने को लेकर विवाद खड़ा हो गया है. शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में चंदा वसूलने को लेकर कई सवाल उठाए हैं. शिवसेना ने पूछा कि मंदिर निर्माण कार्य के लिए हर घर से चंदा इकट्ठा करनेवाली ‘टोली’ बनाई गई है. 4 लाख स्वयंसेवक चंदे के लिए हर द्वार पर जाएंगे. ये स्वयंसेवक कौन हैं? उनकी नियुक्ति किसने की?

शिवसेना ने अपने मुखपत्र में कहा कि कोर्ट का निर्णय आते ही प्रधानमंत्री मोदी की उपस्थिति में मंदिर का भूमि पूजन भी हुआ. मंदिर का काम तेजी से चल रहा है अर्थात 2024 के लोकसभा चुनाव के पहले तंबू में विराजमान रामलला मंदिर में विराजमान हो जाएंगे. अब इस मंदिर निर्माण कार्य के लिए हर घर से चंदा इकट्ठा करनेवाली ‘टोली’ बनाई गई है, जोकि मजेदार है.

शिवसेना ने कहा कि 4 लाख स्वयंसेवक चंदे के लिए हर द्वार पर जाएंगे. ये स्वयंसेवक कौन हैं? उनकी नियुक्ति किसने की? मंदिर निर्माण का खर्च लगभग 300 करोड़ है. मुख्यमंत्री योगी ने राम मंदिर निर्माण की निधि की चिंता न करें, ऐसा कहा है. मर्यादा पुरुषोत्तम राम का मंदिर देश की अस्मिता का मंदिर है और इसके लिए दुनिया भर के हिंदुत्ववादियों ने पहले ही खजाना खाली कर दिया है. इसलिए घर-घर जाकर दान इकट्ठा करने से क्या हासिल होगा? 

Advertisement

शिवसेना ने पूछा कि इस काम के लिए 4 लाख स्वयंसेवकों की नियुक्ति हुई होगी तो उन स्वयंसेवकों का मुख्य संगठन कौन-सा है? यह स्पष्ट हो जाएगा तो अच्छा होगा. चंदे के नाम पर ये 4 लाख स्वयंसेवक एकाध पार्टी के राजनीतिक प्रचारक के रूप में घर-घर जानेवाले होंगे तो ये मंदिर के लिए अपना खून बहानेवालों की आत्मा का अपमान होगा. मंदिर की लड़ाई राजनीतिक नहीं थी. वह समस्त हिंदू भावनाओं का उद्रेक था. उस उद्रेक से ही हिंदुत्व की चिंगारी जल उठी और आज की भाजपा उसी आग पर पकी रोटियां खा रही है.

साभार: आज तक

Advertisement
Advertisement
Exit mobile version