रोहिन खतरे के निशान से ऊपर, राप्ती भी उफनाई, गोरखपुर पर बाढ़ का खतरा

0
437
Advertisement

जिले की नदियों का जलस्तर बढ़त पर है। रोहिन नदी खतरे के निशान से करीब एक मीटर ऊपर बह रही है। ऐसे में कैंपियरगंज तहसील क्षेत्र के दो गांवों में रास्ता बाधित होने के कारण नाव लगा दी गई है।

Advertisement

तहसील क्षेत्र के ग्राम चंदीपुर एवं गुढ़ेली टोला कोमर में नाव लगाई गई है। लोग अपने घर का जरूरी सामान लेकर बंधे की ओर भी जा रहे हैं। इधर राप्ती नदी का जलस्तर चेतावनी स्तर के करीब पहुंच गया है यानी खतरे के बिन्दु से लगभग एक मीटर नीचे राप्ती बह रही है और जलस्तर में वृद्धि जारी है।

सरयू नदी भी अयोध्या पुल के पास चेतावनी स्तर के करीब है। आने वाले 24 से 48 घंटों में यहां भी जलस्तर में और बढ़ोत्तरी देखने को मिल सकती है।

Advertisement

जिला प्रशासन की ओर से जिले में एलर्ट जारी कर दिया गया है। सभी 86 बाढ़ चौकियों को सक्रिय कर दिया गया है। बाढ़ पीडि़तों में राशन सामग्री एवं कोरोना से बचाव का किट बांटने के लिए टेंडर भी खोला जाएगा।

सभी बांधों के निरीक्षण के लिए टीम ग‍ठित

नदियों का जलस्तर बढऩे के साथ ही वरिष्ठ अधिकारियों की ओर से मानीटरिंग की जा रही है। सभी क्षेत्र में बंधों का निरीक्षण करने के लिए टीमों को लगाया गया है। सदर तहसील क्षेत्र में कुछ स्थानों पर रैट होल मिले।

Advertisement

यहां कुछ दिन पहले ही बंधे के गैप को बोरे से भरा गया था लेकिन शुक्रवार को एक बार फिर वहां मिट्टी धंसने लगी। ङ्क्षसचाई विभाग के अधिकारियों को इस बात की जानकारी देकर बंधे को दुरुस्त करने को कहा गया है।

जिले की सभी बाढ़ चौकियों पर जरूरी सामान उपलब्ध कराकर वहां बैनर लगाने व बैनर पर चौकी प्रभारी सहित सभी कर्मियों के नाम, पदनाम व मोबाइल नंबर दर्ज करने को कहा गया है।

जिला आपदा विशेषज्ञ गौतम गुप्ता ने बताया कि नदियों का जलस्तर धीरे-धीरे बढ़ रहा है। रोहिन नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर है, दो स्थानों पर जरूरत थी, इसलिए नाव लगा दी गई है। बाढ़ पीडि़तों के लिए खाद्य सामग्री भी कल जुटा ली जाएगी।

Advertisement

मंडलायुक्त करेंगे बाढ़ राहत कार्यों की समीक्षा

मंडलायुक्त रवि कुमार एनजी शनिवार को देवरिया जाएंगे और वहां बाढ़ बचाव तथा टीकाकरण कार्य की समीक्षा करेंगे। रविवार को गोरखपुर में सिंचाई विभाग के मुख्य अभियंता एवं अपर जिलाधिकारियों के साथ बैठक कर स्थिति का जायजा लेंगे और लोगों की सहायता के लिए जरूरी दिशा-निर्देश देंगे।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement