गोरखपुर के बद्रीका हॉस्पिटल का रजिस्ट्रेशन कैंसिल, कोरोना काल में मचा रखी थी लूट

0
250

गोरखपुर। कोरोना के समय तमाम अस्पतालों से ज्यादा पैसे लेने और मरीज के परिजनों के साथ दुर्व्यवहार की शिकायतें मिलती रहीं है। गोरखपुर में भी कई अस्पतालों की शिकायत सामने आई थी।

Advertisement

ऐसी ही शिकायत मेडिकल कॉलेज रोड स्थित बद्रिका मेडिकल रिसर्च सेंटर की आई थी जहां एक दिन इलाज कर दो दिन की फीस वसूलने की सिकायत की गई थी इस मामले में प्रशासन ने बद्रीका अस्पताल का पंजीकरण निरस्त कर दिया है।

अस्पताल के मैनेजमेंट के खिलाफ चिलुआताल थाने में मुकदमा भी दर्ज कराया गया है। साथ ही तीमारदार को अतिरिक्त फीस वापस कराने के लिए कहा गया है।

Advertisement

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सख्ती के बाद प्रशासन ने शासन की तरफ से इलाज या जांच के लिए तय फीस से अधिक रकम वसूलने वालों की शिकायत के लिए नंबर और मेल आईडी जारी कर रखी है।

शुरुआती 10 दिन तक इन नंबरों पर कोई शिकायत ही नहीं मिली। कमिश्नर के मेल आईडी और हेल्पलाइन पर पहली शिकायत बद्रिका रिसर्च सेंटर की मिली।

कमिश्नर जयंत नार्लिकर के निर्देश पर एडिशन कमिश्नर रतिभान ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ मामले की जांच की तो शिकायत सही पाई गई। इसपर कमिश्नर ने तत्काल सीएमओ को इस हॉस्पिटल का पंजीकरण निरस्त करने का निर्देश दिया।

Advertisement

साथ ही जांच टीम को मुकदमा दर्ज कराने और अतिरिक्त फीस तीमारदारों को वापस कराने को कहा। शाम को तहरीर दी गई जिसपर रात को मुकदमा दर्ज हो गया। इस सिलसिले में अस्पताल प्रबंधन का पक्ष नहीं मिल सका है। पक्ष मिलते ही प्रकाशित किया जाएगा।

कमिश्नर जयंत नार्लिकर ने शासन की ओर से तय फीस से अधिक रुपये वसूलने वाले चिकित्सालयों, पैथोलॉजी की जांच की जिम्मेदारी 28 अप्रैल को ही एडिशनल कमिश्नर (न्यायिक) रतिभान को सौंपी थी। शिकायत के लिए लोगों को भटकना न पड़े इसलिए एक, दो नहीं बल्कि 10 व्हाट्सएप नंबर और ई-मेल आईडी भी जारी की गई थी।

एडिशनल कमिश्नर का कहना है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस सुविधा की जानकारी हो सके इसके लिए उन्होंने शहर के कई प्रमुख स्थानों पर पोस्टर भी चस्पा कराए हैं। ये पोस्टर कलेक्ट्रेट, कमिश्नरी, नगर निगम, रेलवे स्टेशन, छात्र संघ चौराहा, गोलघर, शास्त्री चौक आदि स्थानों पर चस्पा किए गए हैं।

Advertisement

इनपर शिकायत के लिए जारी सभी 10 नंबर और ई-मेल आईडी का भी जिक्र है। उन्होंने लोगों से अपील की कि यदि शासन की तरफ से तय रेट से अधिक फीस वसूली जाए तो वह इन नंबरों पर शिकायत कर सकते हैं, तत्काल जांच की जाएगी और दोषी पाए जाने पर संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जाएगी।

इन नंबरों पर व्हाट्सएप करके दर्ज कराएं शिकायत-
9648305681, 9415177622,  9451414177, 9532552548, 9198981550, 9415221527, 9450883415, 9454654721, 9452255525, 7800178517

कमिश्नर जयंत नार्लिकर ने बताया कि कोरोना के इलाज और जांच के लिए शासन की तरफ से फीस निर्धारित की गई है। इससे अधिक फीस वसूलने वाले को बख्शा नहीं जाएगा।

Advertisement

एक मामले की शिकायत हुई थी। जांच में शिकायत सही पाए जाने पर कार्रवाई की गई है। मरीजों और तीमारदारों से अपील है कि यदि किसी से भी कोई कोविड अस्पताल या पैथोलॉजी सेंटर इलाज या जांच के नाम पर अधिक फीस वसूलता है तो उसकी शिकायत करें।

Advertisement
Advertisement
Advertisement