शहर के राणा अस्पताल ने परिजनों को 1 लाख 10 हजार रुपए लौटाए, कोरोना काल में मचाई थी लूट

347
Advertisement

कोरोना की दूसरी लहर जब पीक पर थी तो शहर के कई अस्पतालों ने मनमाने तरीके से खूब पैसा कमाया। बिना किसी मानक के मरीजों से पैसे वसूले। कई ऐसे मामले सामने आए जहां 2-4 दिनों में कई लाख का बिल बना दिया गया।

Advertisement

लेकिन अब उन अस्पतालों पर शिंकजा कस रहा है। ऐसा ही मामला शहर के राणा हॉस्पिटल का सामने आया है। मरीज के परिजनों की शिकायत पर हुई जांच में यह बात सामने आई है कि हॉस्पिटल संचालक ने मरीज के परिजनों से जमकर धन उगाही की थी।

प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के दबाव के बाद आखिरकार अस्पताल ने 1,10,706 रुपये का चेक पीड़ित परिजनों को सौंपा है।

Advertisement

जानकारी के अनुसार सोनबरसा के रहने वाले मनीष मोदनवाल ने आरोप लगाया था कि उनके पिता दिनेश मोदनवाल कोरोना संक्रमित हुए तो उन्हें राणा हॉस्पिटल में 22 अप्रैल को भर्ती कराया गया।

भर्ती होने के दौरान प्रतिदिन 14 हजार बेड का खर्च बताया गया था। लेकिन उसके बदले प्रतिदिन 20 हजार रुपये वसूले गए।

इसके अलावा 20-25 हजार रुपये की दवा के नाम पर अलग से रुपये जमा कराते थे। बाहर से इंजेक्शन भी मंगाते थे।

Advertisement

आठ दिनों के इलाज में लाखों रुपये खर्च हो गए, लेकिन उनके पिता बच नहीं सके। 30 अप्रैल को दिनेश की मौत हो गई। मौत के बाद भी अस्पताल संचालक ने रुपये वसूले।

आरोप है कि मरीज को ऑक्सीजन भी ठीक ढंग से नहीं दिया गया। हर बार रकम न जमा करने पर मरीज को बाहर निकाल देने की धमकी दी जा रही थी।

मजबूरन इधर-उधर से रकम का जुगाड़ कर किसी तरह रुपये जमा किया। लेकिन पिता की जान नहीं बच सकी।

Advertisement

शिकायत को गंभीरता से लेते हुए प्रशासन ने जांच की तो मामला सही पाया गया। कार्रवाई की डर और प्रशासन के दबाव के बाद राणा हॉस्पिटल ने मनीष को 1,10,706 रुपये का चेक सुपुर्द किया है।

28 मई की तिथि में चेक बनाया गया है। इस सिलसिले में अस्पताल प्रबंधन का पक्ष नहीं मिल सका है। पक्ष मिलते ही उसे भी प्रकाशित किया जाएगा।

अपर आयुक्त न्यायिक से की गई थी शिकायत
परिजनों ने इसकी शिकायत अपर आयुक्त न्यायिक रतिभान वर्मा से की थी। उन्होंने मामले की जांच की और आरोप सही पाया।

Advertisement

इसके बाद कार्रवाई के लिए सीएमओ को रिपोर्ट दे दी गई। बताया जा रहा है कि रिपोर्ट देने के बाद भी हॉस्पिटल रुपये देने में हीलाहवाली कर रहा था। इस बीच पीड़ित परिवार फिर से प्रशासन से शिकायत की तब जाकर चेक सौंपा गया।

कई निजी अस्पताल कर चुके हैं ऐसा कृत्य

कोरोना महामारी के बीच कई निजी अस्पताल आपदा में अवसर ढूूंढते हुए मरीजों और उनके परिजनों से धनउगाही कर चुके हैं।

उन्होंने धनउगाही की रकम प्रशासन की कड़ाई के बाद पीड़ितों को सौंपी। मामले में डिग्निटी हॉस्पिटल और ब्रदी हॉस्पिटल को सील भी किया गया है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement