जनप्रतिनिधियों को युवा नेता और समाजसेवी पवन सिंह से सीख लेनी चाहिए

54
Advertisement

गोरखपुर। “नेता” एक ऐसा शब्द जिससे जनता को काफी उम्मीदें रहती हैं। चुनाव से पहले जिस तरह से गलियों में घूमकर नेताजी लोग जनता से वोट मांगते हैं और झूठे वादे करते हैं ऐसे जनप्रतिनिधियों को गोरखपुर सहित पूरे पूर्वांचल में अपने नेक कामों से जनता के बीच लोकप्रियता बनाने वाले युवा नेता पवन सिंह से सीख लेनी चाहिए।

Advertisement

पवन सिंह यूं तो राजनीति करने पर विश्वास नहीं करते पर उनका मानना है कि जनता की सेवा अगर ज्यादा संख्या में करनी हो तो राजनीति ही एक विकल्प है इसीलिए चुनाव लड़ना जरूरी है। पवन सिंह जिस तरह से निःस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा करते हैं उससे जनता के बीच उनकी लोकप्रियता बहुत ज्यादा है।

उदाहरण के तौर पर यूं कह सकते हैं कि जरूरतमंदों के मसीहा हैं पवन सिंह। पवन सिंह का मानना है कि भगवान ने जो जिंदगी दी है उसे वो जनता की सेवा में अर्पित कर देंगे।

Advertisement

आये दिन जिस तरह से पवन सिंह की लोकप्रियता उनके कर्मों से लोगों में बढ़ रही है उससे चुनाव जीतकर सदन में मलाई खा रहे नेताओं को सीख लेने की जरूरत है वो इसलिए क्योंकि वो लोग विधायक या सांसद होते हुए जनता की सेवा नहीं कर पाते या करना नहीं चाहते तो वहीं दूसरी तरफ पवन सिंह निरंतर निःस्वार्थ भाव से जनता की सेवा करते रहते हैं।

खैर 2022 में विधानसभा चुनाव है और जिस तरह से पूरे पूर्वांचल से पवन सिंह को प्यार मिल रहा है उससे ये तय है कि जनता उन्हें अपना नेता मान चुकी है अब बस इंतजार है चुनाव जीतने का।

Advertisement
Advertisement

Advertisement