कोरोना के चलते गोरखपुर जेल से छूटे कैदी पुलिस के लिए बने सरदर्द

0
200

कोरोना प्रकोप के चलते जेल से अंतरिम जमानत पर छोड़े गए बंदी लॉकडाउन में फिर अपराधों को अंजाम देने में जुट गए हैं। कई को पुलिस ने दोबारा अपराधों को अंजाम देने में गिरफ्तार किया है।

Advertisement

ये पुलिस के लिए एक बार फिर से सिरदर्द साबित हो रहे हैं। लिहाजा पुलिस और क्राइम ब्रांच ने इनकी निगरानी और सख्त कर दी है।

मंडलीय जेल से अब तक 201 बंदी और 26 कैदी छोड़े जा चुके हैं। इनमें अधिकांश गोरखपुर के हैं। बंदियों में अधिकांश सात साल या उससे कम सजा वाले अपराधों चोरी, छिनैती, मारपीट, कच्ची शराब की तस्करी आदि में बंद थे। जेल से छूट कर घर जाने के बाद ये फिर अपने काम में जुट गए हैं।

Advertisement

इनमें से कुछ कच्ची शराब बेच रहे हैं तो कुछ चोरी आदि में संलिप्त हो गए हैं। लिहाजा लॉकडाउन में कच्ची शराब बेचे जाने और चोरी की घटनाएं बढ़ गई हैं। कई लोगों को पुलिस दोबारा गिरफ्तार भी कर चुकी है।

राजघाट पुलिस ने कच्ची शराब बेचने में पकड़ा
राजघाट पुलिस ने जेल से छूटे तुर्कमानपुर निवासी कासिम, इमरान और संतोष को सात अप्रैल को अमरूतानी के पास से कच्ची शराब बेचते हुए पकड़ा। इनके पास से तीस लीटर शराब भी बरामद की गई थी।

सीओ कोतवाली वीपी सिंह के अनुसार पुलिस की जांच में आया कि कुछ दिन पहले ही ये चोरी के आरोप में जेल गए थे। बाद में चार अप्रैल को इन्हें अंतरिम जमानत पर रिहा कर दिया गया था।

Advertisement

इसी प्रकार खोराबार पुलिस ने भी जेल से छूटे दो लोगों को कच्ची शराब के साथ सात तारीख को पकड़ा था। बाद में इन सभी के खिलाफ केस दर्ज कर मुचलके पर रिहा कर दिया गया।

Advertisement
Advertisement
Advertisement