विदेश जाने वाले लोग 28 दिन बाद ही लगवा सकेंगे वैक्सीन की दूसरी डोज़

0
165
Advertisement

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को विशेष छूट दी गई है। अब विदेश जाने वाले लोगों को 28 दिन बाद ही जिला अस्पताल में दूसरी डोज लगवाने की सुविधा मिलेगी।

Advertisement

अभी कोविशील्ड का पहला टीका लगवाने के 84 दिन बाद ही दूसरा टीका लगवाया जा सकता है। विदेश में पढ़ाई करने, रोजगार के उद्देश्य व ओलंपिक में प्रतिभाग करने इत्यादि कार्यों से जा रहे लोगों को यह विशेष सुविधा दी जाएगी।

अपर मुख्य सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद की ओर से सभी मुख्य चिकित्साधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वह इसके लिए हर जिला अस्पताल में एक विशेष बूथ बनाएं, जहां अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को टीका लगवाने की सुविधा दी जाए।

Advertisement

मालूम हो कि अभी कोविशील्ड का पहला टीका लगवाने के 84 दिन बाद ही दूसरा टीका लगवाया जा सकता है, मगर विदेश यात्रा करने वालों को यह विशेष छूट दी जा रही है।

ऐसे लाभार्थी जिन्होंने वैक्सीन की पहली खुराक लेते समय अपने पासपोर्ट का ब्योरा कोविन पोर्टल पर नहीं भरा है, उन्हें फोटो पहचान पत्र के माध्यम से दूसरी डोज लगाई जाएगी। इन्हें मौके पर ही रजिस्ट्रेशन कराने की सुविधा भी दी जाएगी।

दिसंबर तक सभी प्रदेशवासियों को टीका लगाने का लक्ष्य 

Advertisement

देश में सर्वाधिक 24 करोड़ की आबादी वाले राज्य यूपी में दिसंबर तक सभी नागरिकों को टीका लगाए जाने का लक्ष्य तय किया गया है। 31 अगस्त तक 10 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। फिलहाल अभी 18 से 44 वर्ष की आयु और 45 पार उम्र वालों को तेजी से टीका लगाया जा रहा है।

बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। इसे मंजूरी मिलने के बाद उन्हें भी तुरंत टीका लगाया जाएगा। प्रदेश में अब तक कुल 2.83 करोड़ लोगों ने वैक्सीन लगवाई है। टीकाकरण महाभियान के तहत जून में एक करोड़ और जुलाई में तीन करोड़ वैक्सीन लगाए जाने का लक्ष्य पहले ही निर्धारित किया गया था। अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अभियान में और तेजी लाने के निर्देश दिए हैं। 31 अगस्त तक 10 करोड़ टीके लगाए जाएंगे।

जुलाई से टीका लगाने गांव-गांव जाएंगी टीमें

Advertisement

राज्य सरकार की ओर से सभी ग्रामीण क्षेत्रों के विकासखंडों और शहरी क्षेत्र में शहरी निकायों को कई भागों (क्लस्टर) में बांटा गया है। जुलाई से गांव-गांव टीमें जाएंगी और लोगों को बुलावा पर्ची देकर टीका लगवाने के लिए बुलाया जाएगा।

पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर 17 जून से ही सभी जिलों के एक तिहाई विकास खंडों के चार क्लस्टर में यह अभियान शुरू किया जाएगा, ताकि टीकाकरण में आ रही अड़चनों को चिन्हित कर जुलाई से पूरी तेजी के साथ अभियान चलाया जाए। टीके को लेकर लोगों की भ्रांतियां दूर करने के लिए भी टीमें गठित की गई हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement