गोरखपुर में कभी तिवारी और शाही की बोलती थी तूती अब लेडी डॉन ‘गीता तिवारी’ चर्चा में

0
335

गोरखपुर। यूँ तो गोरखपुर दशकों से चर्चा का विषय बना रहा है कभी राजनीति की वजह से तो कभी धाकड़ गुंडई की वजह से। एक समय था जब गोरखपुर में खुलेआम तिवारी और शाही में वर्चस्व की लड़ाई थी। समय बीतता गया और एक नया नाम सामना आया और वो था श्री प्रकाश शुक्ला का, श्री प्रकाश इन सब से अलग था।

Advertisement

उसका अपराध करने के तरिके से बड़े बड़े अपराधी भी खौफ खाते थे। उसके दबंगई का अंदाजा आप इसी से लगा सकते है कि उसने सीधे मुख्यमंत्री को मारने की सुपारी ले ली थी। जिसके बाद पहली बार किसी राज्य में स्पेशल टास्क फाॅर्स (एसटीएफ) का गठन किया गया था।

काफी मशक्कत के बाद पुलिस को कामयाबी हासिल हुई थी और आखिरकार 1998 में पुलिस ने उसका इनकाउंटर कर दिया। सूत्रों की मानें तो श्री प्रकाश की मौत पर खादी से लेकर खाकी तक वालों ने खुशियां मनाई थी। अब एक बार फिर गोरखपुर चर्चा में है, इस बार चर्चा का विषय बनी है गोरखपुर की लेडी डॉन ‘गीता तिवारी’।

Advertisement

गीता की शादी हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ता शिवकुमार तिवारी से तत्कालीन जिलाधिकारी ने कराई थी। तिवारी दंपती शहर के कोतवाली क्षेत्र में किराए का मकान लेकर रहते थे। इस दौरान उसकी एक बेटी भी हुई और परिवार पर जिम्मेदारी बढ़ गई। इसी बीच पति शिव कुमार ने स्मैक की तस्करी का काला धंधा शुरू कर दिया। इस दौरान उसे हिंदू युवा वाहिनी ने निष्काषित कर दिया।

पति की मौत के बाद अपराध जगत से नाता
चार साल पहले शिवकुमार की मौत हो गई। पति की मौत के बाद घर चलाने के लिए गीता चोरी और कई दूसरी आपराधिक गतिविधियों को अंजाम देने लगी। इसके साथ ही पति के काले कारोबार को आगे बढ़ाने के लिए जिले के अपराधियों से उसने संपर्क बढ़ना शुरू किया।

उसके घर पर भी अपराधियों का आना-जाना लगा रहता था। आपराधिक मामलों में नाम आने के बाद पुलिस ने गीता के ऊपर गैंगस्टर ऐक्ट लगा दिया।

Advertisement

10 साल पहले एक छापे के दौरान गीता पहली बार गई जेल
शिवकुमार तिवारी से शादी के बाद गीता आर्केस्ट्रा का संचालन करने लगी थी। इसी दौरान करीब दस साल पहले शिवकुमार तिवारी के घर पुलिस का छापा पड़ा तो पांच अपराधी पकड़े गए।

इसके बाद गीता इस मामले में पहली बार जेल गई। गीता चोरी, हत्या के प्रयास और लूट जैसे कई गंभीर मामलों में जेल की हवा खा चुकी है। 20 अक्टूबर 2020 को जमानत पर वह जेल से बाहर आई थी।

इसके बाद अपनी नातिन के घर गीता की ओर से बर्थडे पार्टी का आयोजन किया गया था। इस पार्टी में कुछ आपराधिक किस्म के लोग भी पहुंचे थे। इन लोगों ने पार्टी के दौरान ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। गोली लगने से दो शख्स गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

Advertisement

इस मामले में पुलिस ने गीता को नौसढ़ स्टेशन से गिरफ्तार करते हुए गोरखपुर जेल भेज दिया था। लेकिन यहां भी गीता की गुटबाजी और बुरे बर्ताव की वजह से उसे अब देवरिया जेल में शिफ्ट कर दिया गया है।

गोरखपुर जिले की सूर्य विहार कॉलोनी निवासी गीता पर हत्या के प्रयास, लूट के अलावा गैंगस्टर ऐक्ट के तहत अलग-अलग थानों में मुकदमे दर्ज हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement