नया भविष्य बनाने का नया संकल्प: विजयादशमी पर पीएम मोदी ने 7 नई रक्षा कंपनियां राष्ट्र को समर्पित कीं

136
Advertisement

नई दिल्ली। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को रक्षा मंत्रालय द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में विजयादशमी के शुभ अवसर पर देश को रक्षा क्षेत्र में 7 नई कंपनियां समर्पित कीं।

Advertisement

इस अवसर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी उपस्थित थे। रक्षा के क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में यह बड़ा कदम माना जा रहा है।

इन नई कंपनियों में भारती सुरक्षाबलों के लिए पिस्टल से लेकर प्लेन तक का निर्माण किया जाएगा।

Advertisement

इस दौरान पीएम मोदी ने कंपनियों के लिए 65 हजार करोड़ रुपए के ऑर्डर की भी दी और कहा कि जो कुछ नाय करना चाहते हैं, उन्हें अपनी प्रतिभा दिखाने का पूरा अवसर मिलेगा।

पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए कहा

आज पूर्व राष्ट्रपति और भारत रत्न डॉ ए.पी.जे अब्दुल कलाम की जयंती है। रक्षा क्षेत्र में आज जो 7 नई कंपनियां उतरने जा रही हैं, वे समर्थ राष्ट्र के उनके संकल्पों को मजबूती देगी। 41 ऑर्डिनेंस फैक्ट्री को नए स्वरूप में किए जाने का निर्णय, 7 नई कंपनियों की ये शुरुआत, देश की इसी संकल्प यात्रा का हिस्सा है। यह निर्णय पिछले 15-20 साल से लटका हुआ था। मुझे पूरा भरोसा है कि ये सभी 7 कंपनियां आने वाले समय में भारत की सैन्य ताकत का एक बड़ा आधार बनेंगी।

पीएम मोदी ने आगे भारत की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री के बारे में कहा

“विश्व युद्ध के समय भारत की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री का दम-खम दुनिया ने देखा था। हमारे पास बेहतर संसाधन होते थे, विश्व स्तरीय कौशल था। आज़ादी के बाद हमें जरूरत थी इन फैक्ट्रियों को अपग्रेड करने की, नई तकनीक को अपनाने की, लेकिन इस पर बहुत ध्यान नहीं दिया गया। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत देश का लक्ष्य भारत को अपने दम पर दुनिया की बड़ी सैन्य ताक़त बनाने का है, भारत में आधुनिक सैन्य इंडस्ट्री के विकास का है। पिछले 7 सालों में देश ने ‘मेक इन इंडिया’ के मंत्र के साथ अपने इस संकल्प को आगे बढ़ाने का काम किया है।”

पीएम मोदी ने आगे स्टार्टअप्स से सहयोग करने का आग्रह किया

कुछ समय पहले ही रक्षा मंत्रालय ने ऐसे 100 से ज्यादा सामरिक उपकरणों की लिस्ट जारी की थी जिन्हें अब बाहर से आयात नहीं किया जाएगा। इन नई कंपनियों के लिए भी देश ने अभी से 65 हजार करोड़ रुपए के ऑर्डर्स दिए हैं। ये हमारी डिफेंस इंडस्ट्री में देश के विश्वास को दिखाता है। मैं इन 7 कंपनियों से आग्रह करता हूं कि वे अपनी कार्य संस्कृति में ‘अनुसंधान और नवाचार’ को प्राथमिकता दें। आपको भविष्य की तकनीक में नेतृत्व करना है, शोधकर्ताओं को अवसर देना है। मैं स्टार्टअप्स से इन 7 कंपनियों के साथ सहयोग करने का भी आग्रह करूंगा।

Advertisement
Advertisement
Advertisement