Home उत्तर प्रदेश 24 जून है बहुत खास, 18 साल बाद एक सीध में दिखेंगे...

24 जून है बहुत खास, 18 साल बाद एक सीध में दिखेंगे 5 ग्रह, घर बैठे ऐसे कर सकते हैं दीदार

24
Advertisement

गोरखपुर। खगोल विज्ञान में रुचि रखने वाले लोगों के लिए 24 तारीख़ बेहद ख़ास है, इस दिन पाँच ग्रह एक सीध में आ रहे हैं, ऐसा पिछली बार दिसम्बर 2004 में हुआ था और अब 18 साल बाद फिर एक बार 24 जून 2022 को होने जा रहा है, अगर आप इस बार नही देख पाए तो आपको साल 2040 में देखने का अवसर मिलेगा।

इस खगोलीय घटना को ग्रेट प्लेनेटरी एलाइनमेंट, या प्लेनेटरी परेड भी कहा जाता है, इसको देखने के लिए आपको सुबह सूर्योदय से पहले जागना होगा।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद लखनऊ, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग उत्तर प्रदेश शासन द्वारा संचालित वीर बहादुर सिंह नक्षत्र शाला तारामंडल गोरखपुर के वरिष्ठ क्षेत्रीय वैज्ञानिक अधिकारी महादेव पाण्डेय द्वारा बताया गया कि इस खगोलीय घटना को देखने के लिए नक्षत्र शाला में विशेष दूरबीनों के माध्यम से आम जन मानस को दिखाया एवं समझाया जायेगा, जिस से विद्यार्थियों और आम जन मानस में खगोल विज्ञान के प्रति रुचि बढ़े।

Advertisement

कहाँ और कैसे देखें – इसको देखने के लिए आपको पूर्व से लेकर दक्षिण पूर्व के आकाश में देखना होगा, इसे साधारण आँखों से भी देखा जा सकता है, लेकिन अगर आपके पास टेलिस्कोप है तो और ज्यादा अच्छे से देख सकते हैं, इसे सूर्योदय से आधा घंटा पहले छितिज से ऊपर देखा जा सकता है।

वहीं नक्षत्र शाला के खगोलविद अमर पाल सिंह ने ग्रहों की परेड के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि जब दो या दो से अधिक ग्रह एक सीध में आ जाते हैं तब इसे प्लेनेट परेड कहा जाता है, कुछ बर्षों के अंतराल पर प्रायः दो या तीन ग्रह एक सीध में आते हैं इस बार 24 जून को पाँच ग्रहों का एक सीधी रेखा में आना दुर्लभ खगोलीय घटनाओं में से एक है, यह खगोलीय घटना 24 जून 2022 को सूर्योदय से पहले घटित हो रही है , इस बार बुद्ध, शुक्र, मंगल, बृहस्पति एवं शनिग्रह एक सीध में आ जाएंगे ।

जिस क्रम में ये सूर्य का चक्कर लगाते हैं , इसकी खूबसूरती बढ़ाने के लिए चंद्रमा भी मंगल और बृहस्पति के बीच में दिखाई देगा, इसी प्रकार हमारे सौर मंडल के समस्त आठ ग्रहों का एक सीधी रेखा में आना बहुत ही दुर्लभतम खगोलीय घटना होती है, जो कि लगभग एक हज़ार साल में एक बार ही घटित होती है जो 470 साल बाद सन 2492 में घटित होगी।

Advertisement
Advertisement