चरित्र पर शक था तो ली पत्नी की अग्नि परीक्षा, जल गया हाथ तो जहर पिला दिया

544
Advertisement

गोरखपुर। पिपराइच थाना क्षेत्र के तरकुलही निवासी एक व्यक्ति की सनक ने अपनी और अपनी पत्नी दोनों की जान खतरे में डाल दी है। लगभग एक महीने पहले उसने पत्नी के चरित्र पर संदेह करते हुए उसकी अग्नि परीक्षा ली।

Advertisement

वहीं गुरुवार रात में युवक ने अपनी पत्नी को यह कह कर जयघर पीला दिया की अगर तुम गलत नहीं हो तो तुम्हें कुछ नहीं होगा। हैरत की बात है की बाद में युवक ने खुद भी जहर पी लिया।

उसने अपने बच्चों को भी जहरीला पेय पिलाने की कोशिश की, लेकिन पत्नी ने उसके हाथ से बोतल छीनकर फेंक दी। पति-पत्नी की स्थिति नाजुक है। दोनों का भटहट के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है।

Advertisement

बताया जा रहा है कि तरकुलही निवासी एक युवक की शादी 12 वर्ष पूर्व गुलरिहां के जैनपुर के काजीपुर टोला निवासी एक युवती से हुई थी। दोनों के तीन बच्चे हैं।

युवती के पिता का आरोप है कि एक महीने पहले उसके दामाद ने बेटी के चारित्र पर संदेह करते हुए कहा कि वह हाथ पर कपूर जलाकर अग्निपरीक्षा दे। उसने कहा कि यदि वह सही होगी तो उसे कुछ नहीं होगा। पत्नी ने हाथ में कपूर जलाकर दिखा दिया। कपूर जलाने से पत्नी का हाथ जल गया। उसके हाथ का अभी भी इलाज चल रहा है।

बताया कि दामाद ने बेटी को इलाज के बहाने ले जाकर एक जहरीला पेय पीने को कहा। उसने कहा कि इसे पीने से सब ठीक हो जाएगा। पति के भरोसे के लिए महिला ने जहरीला पेय पी लिया। उसके बाद युवक ने भी पी लिया।

Advertisement

वह अपने तीनों बच्चों को भी वो पेय पिलाने जा रहा था, लेकिन पत्नी ने पति के हाथ से बोतल छीनकर फेंक दिया।

ससुराल पहुंचते ही दोनों को उल्टियां होने लगीं। दोनों को भटहट के एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया। वहां दोनों की स्थिति गंभीर है। भटहट चौकी प्रभारी विरेंद्र बहादुर सिंह ने बताया कि उन्हें घटना की जानकारी नहीं मिली है।

Advertisement
Advertisement

Advertisement