डीडीयू यूनिवर्सिटी में पांच नए इंस्टीट्यूट, 13 सेंटर समेत 63 कोर्स को कार्य परिषद की मंजूरी

0
308

गोरखपुर। दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में पांच नए इंस्टीट्यूट, 13 सेंटर समेत 63 कोर्स को कार्य परिषद की मंजूरी मिल गई।

Advertisement

इसके अलावा 11 सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के प्रस्ताव को भी राज्य सरकार को भेजने पर कार्य परिषद सहमत हो गया है।

शुक्रवार को कुलपति प्रो. राजेश सिंह की अध्यक्षता में कार्य परिषद की एक अत्यंत महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गई।

Advertisement

बैठक में कार्यपरिषद ने विश्वविद्यालय की विद्या परिषद द्वारा स्वीकृत पांच नए इंस्टीट्यूट, 13 सेंटर सहित 63 पाठ्यक्रमों को अपनी संस्तुति दी।

कार्य परिषद ने उन सभी 11 सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना के प्रस्ताव को भी स्वीकृत किया जिन्हें राज्य सरकार को संस्तुति के लिए प्रेषित किया जाना है।

Advertisement

कार्य परिषद में निर्णय लिया गया कि विश्वविद्यालय अतिथि गृह में निःशुल्क ठहरने की व्यवस्था किसी के लिए भी नहीं की जाएगी।

Advertisement

विश्वविद्यालय के अति विशिष्ट अतिथियों के ठहरने का भुगतान भी विश्वविद्यालय द्वारा किया जाएगा।

टीचर्स का होगा हेल्थ इन्श्योरेंस

कार्य परिषद की बैठक में कोरोना के असर पर चर्चा हुई। इस बैठक में कुलपति ने विश्वविद्यालय के शिक्षकों के लिए एक स्वास्थ्य सुरक्षा बीमा शुरू करने का प्रस्ताव भी रखा। कुलपति ने कहा कि इस योजना को एक बीमा कंपनी के साथ विश्वविद्यालय शुरू करेगा।

इससे शिक्षकों को स्वास्थ्य सम्बंधित खर्चों में मदद मिलेगी। इस योजना के प्रीमियम का एक हिस्सा विश्वविद्यालय और एक हिस्सा शिक्षक द्वारा वहन किया जाएगा।

Advertisement

कुलपति ने बताया कि अगले कार्य परिषद की बैठक में इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया जाएगा।

डिजिटल होगा विश्वविद्यालय का वर्क

कुलपति प्रो. सिंह ने कार्य परिषद में विश्वविद्यालय के फाइल सिस्टम को डिजिटल करने की भी योजना रखी।

इस योजना को भी कार्य परिषद की अगली बैठक में स्वीकृत के लिए लाया जाएगा। इस योजना से विश्वविद्यालय की कार्यप्रणाली जल्द ही कागज रहित हो जाएगी।

Advertisement

कार्य परिषद द्वारा विश्वविद्यालय वित्त समिति के पिछले तीन बैठकों की संस्तुतियों का अनुमोदन भी किया गया। कोविड महामारी के मद्देनजर उच्च शिक्षा विभाग द्वारा भौतिक रूप से पठन-पाठन के लिए जारी किए गए शासनादेश को भी स्वीकार कर लिया गया। बैठक में कार्य परिषद के सदस्यगण तथा विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. ओमप्रकाश उपस्थित रहे।

Advertisement
Advertisement
Advertisement