डीडीयू : फाइनल ईयर के एग्जाम जून के पहले हफ्ते में हो सकते हैं, ऐसे होंगे एग्जाम

0
802

गोरखपुर। दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में ग्रेजुएशन फाइनल ईयर और पोस्ट ग्रेजुएशन फाइनल ईयर के बाकी बचे हुए एग्जाम जून के पहले हफ्ते में हो सकते हैं।

Advertisement

परीक्षाएं कोरोना को लेकर जारी सरकारी एडवाइजरी के अनुसार ही कराई जाएंगी। परीक्षा समिति की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया।

Advertisement

बैठक में तय किया गया कि स्थिति ठीक होने पर फाइनल ईयर की परीक्षा को प्राथमिकता दी जाएगी। यदि स्थिति ठीक रही, तो फाइनल ईयर के बचे हुई एग्जाम जून के पहले हफ्ते में कराए जाएंगे। जबकि बाकी एग्जाम बाद में दूसरे चरण में होंगे।

स्टूडेंट्स का जीवन पहले सत्र बाद में है

बैठक की अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रो.विजय कृष्ण सिंह ने कहा कि यूनिवर्सिटी उन सभी मुद्दों पर विचार कर रही है जिससे सेशन लेट न हो। हमें न केवल विद्यार्थियों के हितों को देखना है अपितु कोरोनावायरस से भी बचना है। आज पूरी दुनिया में कोरोनावायरस महामारी का रूप ले चुका है। इसका असर यहां पर भी है। इसलिए हमें इसको लेकर विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है।

इस बार डीडीयू और उससे जुड़े डिग्री कॉलेजों में परीक्षा के लिए इस प्रकार एडवाइजरी जारी की गई है
  • प्रत्येक परीक्षार्थी को परीक्षा के समय मास्क या गमछे से अपना नाक, मुँह ढक कर रखना अनिवार्य होगा।
  • परीक्षा केन्द्र पर सेनेटाइजर की व्यवस्था अनिवार्य होगी, छात्र स्वयं भी सेनेटाइजर रख सकते हैं। प्रत्येक परीक्षा के पूर्व परीक्षा कक्ष सेनेटाइज कराया जायेगा।
  • विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित प्रत्येक परीक्षा केन्द्र पर हाथ धोने के लिए साबुन/हैंडवाश व पानी की व्यवस्था अनिवार्य होगी।
  • यदि किसी परीक्षार्थी को किसी कारण से बुखार/जुखाम/छींक आ रही है, तो उसकी परीक्षा की व्यवस्था अलग कमरे में होगी
  • विश्वविद्यालय परीक्षा केन्द्र पर सम्मिलित होने वाले छात्रों के लिए थर्मल स्कैनर की व्यवस्था होगी ताकि छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा सके। महाविद्यालय भी अपने स्तर से छात्रहित में थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था कराएंगे।
  • छात्रों को सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा, दो छात्रों के बैठने की दूरी समुचित रहेगी। इसके लिए परीक्षा कक्षों की संख्या बढ़ायी जा सकती है।
  • परीक्षा केन्द्र पर छात्रों के साथ-साथ कक्ष निरीक्षकों/कर्मचारियों आदि को भी सोशल डिस्टेसिंग व आवश्यक सतर्कता का पालन कराना अनिवार्य होगा।
  • परीक्षा जल्दी समाप्त हों इसके लिए रविवार व छुट्टियों के दिन भी परीक्षा करायी जायेगी। वर्तमान विषम परिस्थियों के कारण छात्रों के प्रश्नपत्रों के बीच किसी भी प्रकार का गैप देना अनिवार्य नहीं होगा। छात्र लॉक डाउन की अवधि में परीक्षा की तैयारी करते रहें।
  • परीक्षा केन्द्र पर परीक्षार्थियों की संख्या के अनुरूप केन्द्राध्यक्ष परिस्थिति अनुरूप अपने विवेक से परीक्षा कक्ष में छात्रों की इंट्री 30 मिनट/45 मिनट /घंटा पूर्व कराना सुनिश्चित करेंगे।
  • छात्रों को परीक्षा केन्द्र पर परीक्षा से घंटा पूर्व आना होगा ताकि उनका स्वास्थ्य आदि की समुचित जांच हो सके।
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement