मुजफ्फरनगर दंगों के केस वापस लेगी योगी सरकार

0
580
Advertisement

योगी सरकार लाख सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ कार्रवाई की बात करे लेकिन सरकार की कथनी और करनी में जमीन आसमान का फर्क है. जिसका उदहारण मुजफ्फर दंगे से जुड़े मामलों में देखा जा सकता है.दरअसल, योगी सरकार ने दंगाइयों पर दर्ज मुकदमें वापस लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

Advertisement

2013 में मुजफ्फरनगर और शामली में हुए व्यापक दंगों में पांच सौ से ज्यादा मुकदमे दर्ज हुए थे. इन मुकदमों में हत्या के 13 और हत्या के प्रयास के 11 गंभीर मामले दर्ज हैं. 16 मुकदमे सेक्शन 153 ए यानी धार्मिक आधार पर दुश्मनी फैलाने के आरोप तथा दो मुकदमे सेक्शन 295 के दर्ज हैं, यानि किसी धर्म विशेष की भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाले भाषण देने का आरोप है.

बता दें कि भाजपा सांसद संजीव बालियान और विधायक उमेश मलिक के नेतृत्व में खाप पंचायतों के प्रतिनिधिमंडल ने पांच फरवरी को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर उन्हें 179 केस की लिस्ट सौंपकर वापस कराने की मांग की थी. बालियान ने बताया कि उन्होंने मुख्यमंत्री को जो सूची सौंपी उसमें सभी एक ही समुदाय के थे.

Advertisement

जिसके बाद 23 फरवरी को उत्तर प्रदेश के कानून विभाग ने विशेष सचिव राजेश सिंह के हवाले से मुजफ्फरनगर और शामली के जिलाधिकारियों को पत्र भेजकर 131 मुकदमों के संबंध में 13 बिंदुओं पर सूचना मांगी थी.

2013 में हुए इस भीषण दंगों में 63 लोगों की मौत हुई थी और 50 हजार लोग विस्थापित हुए थे. मरने वालों में ज्यादातर मुस्लिम समुदाय के लोग थे. दंगो के मामले में मंत्री सुरेश राणा, पूर्व केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान, भाजपा विधायक संगीत सोम, उमेश मलिक और अन्य के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी हो चूका है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement